पाठ 1 – ‘बहादुर’

‘बहादुर’ कहानी एक बारह-तेरह वर्षीय लड़के की है जो नेपाल और बिहार की सीमा पर स्थित गाँव में रहता है। उसके पिताजी सेना में थे, लेकिन उनकी मृत्यु हो गई है। बहादुर अपनी एकमात्र माँ के साथ है, लेकिन उसका मन नौकरी में नहीं लगता है। उसकी शरारतें उसे उच्चाधिकारियों की नजरों में डालती हैं, जिसके कारण उसकी माँ उसे पीटती है और वह घर छोड़ देता है।

बहादुर को नौकरी के रूप में एक वाचक अपने घर लेकर आता है। वाचक का परिवार मध्यवर्गीय है और वहां बहादुर को मिलता है। शुरू में, वाचक की पत्नी निर्मला बहादुर से सहानुभूति से बच्चों के साथ मिलने का तात्पर्य रखती है, लेकिन समय के साथ साथ उनका व्यवहार बदल जाता है। किशोर, बहादुरकी उम्र का एक और बच्चा, उसको परेशान करता है और उसे अनधिकृत तरीके से दुनिया से मिलाता है।

निर्मला भी धीरे-धीरे बहादुर के प्रति सख्त हो जाती है और उसे घर के कामों में दबाव डालती है। एक दिन, किशोरबहादुर पर झूठा आरोप लगाता है, जिससे उसे वाचक और निर्मला की तरफ से पीटाई का सामना करना पड़ता है। इसके बाद, बहादुर घर छोड़ देता है। हमें दूसरों के साथ सहानुभूति और दया से बर्ताव करना चाहिए और व्यक्ति के व्यवहार के पीछे छिपे मनोवैज्ञानिक कारणों को समझना चाहिए।

कहानी का उद्देश्य

इस कहानी का मुख्य उद्देश्य मध्यवर्गीय परिवारों में नौकरों के साथ होने वाले अत्याचारों को प्रकट करना है और यह दिखाना है कि हमें दूसरों के साथ दया और सहानुभूति से बराबरी बनाए रखना चाहिए।

कहानी के पात्र

  • बहादुर: 12-13 वर्षीय लड़का जो अपने परिवार की परवाह करता है और मेहनती है।
  • वाचक: मध्यवर्गीय व्यक्ति जो अपनी पत्नी के दबाव में आकर बहादुर के साथ अत्याचार करता है।
  • निर्मला: वाचक की पत्नी जो एक अभिमानी महिला है औरबहादुर के साथ बुरा व्यवहार करती है।
  • किशोर: वाचक का बिगड़ा हुआ पुत्र जो बहादुर को परेशान करता है।

कहानी के मुख्य संदेश

  • व्यक्ति के व्यवहार के पीछे परिस्थितियों से उत्पन्न मनोवैज्ञानिक कारण हो सकते हैं।
  • हमें दूसरों के साथ दया और सहानुभूति से पेश आना चाहिए।
  • हमें अपने व्यवहार के परिणामों के बारे में सोचना चाहिए।

Nios Secondary Syllabus, important question and answer

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!