IGNOU BHDC -131 QUESTION PAPER WITH SOLUTION FOR EXAM PREPARATION

1. भक्ति आंदोलन की दो प्रमुख धाराएं कौन सी है –

2. रीतिमुक्त का शाब्दिक अर्थ क्या है

3. रामकाव्य परंपरा

4. सभी विद्वानों ने तुलसीदास की कौनसी बारह रचनाओं को ही प्रामाणिक माना है।

5.

हिन्दी साहित्य के इतिहास में रीतिकाल की अवधि कब तक मानी जाती है। 

6.

कब तक की अवधि भक्तिकाल के नाम से अभीहित की जाती है। 

7. रामभक्ति काव्य की सबसे बड़ी विशेषता क्या है।

8.

हिन्दी में रामभक्ति के प्रमुख कवि कौन माने जाते हैं।

9. तुलसीदास जी का विवाह किससे हुआ था।

10. द्विवेदी युगीन गद्य साहित्यकार

11. रामकाव्य का श्रेष्ठ ग्रंथ कौन सा है।

12. भक्तिकाल युग में किस के कारणों से भक्ति की प्रवृत्ति का विस्तार हुआ।

13. रासो काव्य

14.

निर्गुण धारा कौनसी दो शाखाओं में विभक्त हुई

15. समकालीन कहानी

16.

रामकाव्य धारा में अष्टछाप के आठ कवि में कौन कौन आते हैं –

17.

भक्तिकाल का साहित्य कितनी धाराओं में बांटा जा सकता है –

18. रीतिकाव्य के अर्थ और स्वरूप को स्पष्ट करते हुए इसके उदय से संबंधित विभिन्न परिस्थितियों पर प्रकाश डालिए।

19. प्रमुख निर्गुण संत कवियों की काव्यगत विशेषताओं को रेखांकित कीजिए।

20. हिंदी उपन्यास की प्रमुख प्रवृत्तियों की विवेचना कीजिए।

21. भक्तिकाव्य  को ओर किस नाम से जाना जाता है।

22.

भक्तिकाल के काव्य में  कौन सी भावना सर्वत्र दृष्टिगोचर होती है।

23. हिंदी नाटक के विविध रूपों का परिचय दीजिए।

24.

रीतिकालीन काव्य धारा को कितने वर्गों में विभाजित किया गया है।

25. ज्ञानाश्रयी शाखा के उन्नायक कौन हैं। 

26. कृष्णभक्ति काव्य में भक्ति का स्वरूप

27. भक्ति आंदोलन का उदय –

28. हिंदी साहित्य के कालों के नामकरण संबंधी विभिन्न मतों की चर्चा कीजिए।

29. शुक्ल पूर्व युग के प्रमुख निबंधकार

30. सूरदास का उत्कृष्ट ग्रंथ कौन सा है।

31.  प्रेममार्गी शाखा में कौन से कवि आते हैं।

32. भारतेंदु युग में रचित हिंदी साहित्य का परिचय दीजिए।

33.

कृष्णभक्ति शाखा के प्रमुख कवियों में कौन प्रमुख कवि के रूप में जाने जाते हैं।

34. तुलसी सतसई की रचना कब हुई।

35.

सगुण भक्ति धारा को किन दो भागों में विभक्त हुई ।

36. आधुनिक कहानी का उदय



You may also like...

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!