IGNOU MHD-01 QUESTION PAPER WITH SOLUTION FOR EXAM PREPARATION

बिहारी के प्रकृति चित्रण की विशेषताएँ बताइए।

 

तुलसी के सामाजिक दृष्टिकोण का मूल्यांकन कीजिए।

 तब तौ छबि पीवत जीवत हे, अब सोचन लोचन जात जरे।
हित-पोष के तोष सु प्रान पले, बिललात महादुख दोष भरे।
‘घनआनंद’ मीत सुजान बिना, सब ही सुख-साज समाज टरे।
तब हार पहार से लागत हे, अब आनि के बीच पहार परे।।

 

खेती न किसान को, भिखारी को न भीख, बलि,
वनिक को बनिज न,  चाकर को चाकरी ।
जीविका विहीन लोग, सीद्यमान सोच बस,
कहैं एक एकन सों,  कहाँ जाई, का करी ।।

बेदहूँ पुरान कहीलोकहूँ बिलोकिअत

साँकरे सबै पैरामरावरें कृपा करी

दारिद-दसानन दबाई दुनी , दीनबंधु !

दुरित-दहन देखि तुलसी हहा करी

विद्यापति की काव्य संवेदना में मौजूद भक्ति और श्रृंगार के द्वंद्व का मूल्यांकन कीजिए।

 

साधो, देखो जग बौराना ।
साँची कही तो मारन धावै, झूठे जग पतियाना ।
हिन्दू कहत,राम हमारा, मुसलमान रहमाना ।
आपस में दौऊ लड़ै मरत हैं, मरम कोई नहिं जाना ।
बहुत मिले मोहि नेमी, धर्मी, प्रात करे असनाना ।
आतम-छाँड़ि पषानै पूजै, तिनका थोथा ज्ञाना ।
आसन मारि डिंभ धरि बैठे, मन में बहुत गुमाना ।
पीपर-पाथर पूजन लागे, तीरथ-बरत भुलाना ।
माला पहिरे, टोपी पहिरे छाप-तिलक अनुमाना ।
साखी सब्दै गावत भूले, आतम खबर न जाना ।

राजै कहा दरस जौ पावौं । परबत काह, गगन कहँ धाावौं॥

जेहि परबत पर दरसन लहना । सिर सौं चढ़ौं, पाँव का कहना॥

मोहूँ भावै ऊँचै ठाऊँ । ऊँचै लेउँ पिरीतम नाऊँ॥

पुरुषहि चाहिय ऊँच हियाऊ । दिन दिन ऊँचे राखै पाऊ॥

सदा ऊँच पै सेइय बारा । ऊँचै सौं कीजिय बेवहारा॥

ऊँचे चढ़ै, ऊँच खंड सूझा । ऊँचै पास ऊँच मति बूझा॥

ऊँचे सँग संगति नित कीजै । ऊँचे काज जीउ पुनि दीजै॥

दिन दिन ऊँच होइ सो, झेहि ऊँचे पर चाउ।

ऊँचे चढ़त जो सखि परै, ऊँच न छाड़िय काउ॥5॥



You may also like...

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!