भारत मे जाति विहीन समाज के लिए अम्बेडकर ने क्या समाधान दिये है व्याख्या कीजिए। BABG-171

डॉ. बी.आर. आंबेडकर, भारतीय संविधान के निर्माता और दृष्टिकोनी सामाजिक सुधारक, न्यायिक और न्यायिक विचारधारा के प्रोत्साहक, भारत में समाज में पिचड़ावा और दलित समुदायों के समर्थन के लिए अपना समस्त जीवन समर्पित किया। उन्होंने जाति व्यवस्था के विरोध में आवाज उठाई, जो उन्हें सामाजिक असमानता और भेदभाव के मुख्य कारण के रूप में दिखाई दी। आंबेडकर ने भारत में जाति विहीन समाज के लिए कई समाधान प्रस्तावित किए, जिनमें कानूनी सुधार, सामाजिक और शैक्षिक उपाय, आर्थिक सशक्तिकरण, और राजनीतिक प्रतिनिधित्व शामिल थे। नीचे, हम भारत मे जाति विहीन समाज मुख्य समाधानों पर विचार करते हैं जिन्हें आंबेडकर ने पेश किया:

  1. जाति का विनाश: आंबेडकर ने भारत मे जाति विहीन समाज बनाने के लिए, “जाति का विनाश” के लिए आवाज उठाई, जिससे जाति के आधार पर भेदभाव और पूर्वाग्रहों का समापन हो सके। उन्हे यकीन था कि भारतीय समाज में जाति विभाजन गहरी रूप से जड़ा हुआ है, और साधारण सुधार या समायोजन पर्याप्त नहीं होगा। उन्होंने प्रस्तावित किया कि समाज को पूरी तरह से जाति व्यवस्था को छोड़ देना चाहिए, और सामाजिक एकता के भाव के साथ जाति-विवाह को बढ़ावा देना चाहिए।
  2. शैक्षिक सुधार: आंबेडकर ने  पिछड़े हुए समुदायों को सशक्त बनाने के लिए शिक्षा के महत्व को जोर दिया। उन्हे लगता था कि शिक्षा व्यक्तियों को गुणवत्ता शिक्षा देने का माध्यम है, जिससे वे समाजी नियमों को प्रश्न कर सकते हैं और भेदभावपूर्ण अमलों को चुनौती दे सकते हैं। आंबेडकर ने सभी के लिए मुफ्त और अनिवार्य शिक्षा की मांग की, जिससे जाति के अनुसार किये गए भेदभाव को दूर करने का प्रयास किया। उन्होंने दलित इतिहास और योगदानों को राष्ट्रीय पाठ्यक्रम में शामिल करने की भी ज़रूरत को महसूस किया ताकि पिचड़े समुदायों के संघर्षों और उनकी प्राप्तियों के बारे में जागरूकता बढ़ सके।
  3. आरक्षण नीति: आंबेडकर ने भारत में आरक्षण नीति की प्रस्तावना करने में महत्वपूर्ण योगदान दिया। उन्होंने यह दावा किया कि ऐतिहासिक न्याय और जाति-विशेष भेदभाव के कारण कुछ समुदायों का आर्थिक और सामाजिक पिछड़ाव हो गया है। इसे सुधारने के लिए, उन्होंने शिक्षण संस्थानों, सरकारी नौकरियों, और विधायिकाओं में अनुसूचित जाति (एससी), अनुसूचित जनजाति (एसटी), और अन्य सामाजिक और शैक्षिक पिछड़े वर्गों के लिए सीटों का आरक्षण करने का प्रस्ताव किया। आरक्षण नीति का उद्देश्य पिचड़े समुदायों को शिक्षा और सार्वजनिक रोजगार तक पहुंच प्रदान करना था, जिससे उनके सामाजिक-आर्थिक उन्नति को संभव बनाया जा सकता है।
  4. आर्थिक सुधार: आंबेडकर ने यह स्वीकार किया कि  जाति व्यवस्था से आर्थिक असमानता जुड़ी हुई है। उन्होंने भू-सुधार और कृषि भूमि का पुनर्वितरण प्रस्तावित किया ताकि पिचड़े समुदायों, विशेषकर दलितों, को उत्पादक संपत्ति के मालिकाना अधिकार और नियंत्रण हो सके। उन्होंने मजदूरों के आर्थिक अधिकारों की सुरक्षा करने और उन्हें न्यायपूर्वक मिलने वाली मजदूरी और श्रमिक संबंधित विधान लागू करने के नीतियों के प्रस्तावना की।
  5. राजनीतिक प्रतिनिधित्व: आंबेडकर ने पिचड़े समुदायों के लिए राजनीतिक प्रतिनिधित्व के महत्व को ज़ोर दिया। उन्होंने अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति को विधायिका निकायों में आदर्श प्रतिनिधित्व के लिए आरक्षित सीटों का प्रस्ताव किया। आंबेडकर को यकीन था कि राजनीतिक शक्ति मज़बूत होने से पिचड़े समुदायों को अपने मुद्दों को सकारात्मक ढंग से समाधान करने के लिए सहायता मिलेगी।
  6. सामाजिक सुधार: कानूनी और राजनीतिक उपायों के साथ-साथ, आंबेडकर ने सामाजिक सुधारों की आवश्यकता को भी महसूस किया। उन्होंने जाति-आधारित भेदभाव, अशिक्षा, और दलितों के सामाजिक अलगाव के खिलाफ अभियान चलाया। उन्होंने समाज में दलितों को सम्मिलित करने के लिए मिशनरी मंदिर और सार्वजनिक जलस्रोतों के स्थापना के लिए काम किया, जिससे जातिवादी भेदभाव को तोड़ा जा सके।
  7. महिला सशक्तिकरण: आंबेडकर महिला अधिकारों के प्रबंधन में एक सशक्त समर्थनकर्ता थे और उन्होंने उनके समान सहभागिता में विश्वास किया। उन्होंने महिला अधिकारों की रक्षा करने के लिए लड़ाई लड़ी और उन्हें जाति-आधारित समाजों में विद्रोही भूमिका से मुक्त करने के लिए अभियान चलाया। आंबेडकर ने महिलाओं के समाज में सभी क्षेत्रों में समान भागीदारी की मांग की और उन्हें दलित समुदाय के विरुद्ध अन्यायपूर्ण सामाजिक नॉर्म्स और अमलों से मुक्ति दिलाने के लिए प्रयास किया।
  8. जाति-आधारित भोजन और सामाजिक एकता: आंबेडकर ने अन्य जातियों के साथ जाति-आधारित भोजन और समाजिक संवाद को प्रोत्साहित करने के लिए प्रेरित किया। उन्हें इन अमलों को जातिवादी भेदभाव को तोड़ने और सामाजिक समरसता को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण रोल मिला।
  9. धर्म निरपेक्षता: आंबेडकर ने धर्म निरपेक्ष राज्य के महत्व को ज़ोर दिया, जिसमें सरकार सभी धर्मों के प्रति निष्पक्ष रहती है और सभी नागरिकों के साथ समान व्यवहार करती है। उन्हें धर्मिक सिद्धांतों को जातिवादी भेदभाव को स्थायी करने में एक महत्वपूर्ण शर्त माना गया, क्योंकि धार्मिक अधिग्रहण अक्सर जातिवादी विभाजनों को मज़बूत करते हैं।
  10. कानूनी सुधार: आंबेडकर ने पिचड़े समुदायों के अधिकारों की रक्षा करने के लिए नियमों के निर्माण में महत्वपूर्ण योगदान दिया। उन्होंने बाल विवाह जैसे सामाजिक बुराइयों के खिलाफ लड़ाई लड़ी और महिला और बच्चों के हित की रक्षा करने के लिए क़ानूनी उपाय अधिकारियों के प्रस्तावना की। इसके अलावा, उन्होंने जातिवादी भेदभाव को बढ़ावा देने वाले कुछ कानूनों को ख़त्म करने का भी प्रयास किया।

आंबेडकर के विचारों और प्रयासों ने एक भारत मे जाति विहीन समाज के प्रति प्रगति के लिए महत्वपूर्ण योगदान दिया, लेकिन इस दिशा में अभी भी काम की आवश्यकता है। कानूनी और संविधानिक व्यवस्थाओं के बावजूद, भारत में विभिन्न रूपों में जातिवादी भेदभाव आज भी बना हुआ है। आंबेडकर के दृष्टिकोन को पूरी तरह से साकार करने के लिए, सरकार, समाज, और व्यक्तियों को सामाजिक असमानता को समाप्त करने, समावेशीता को बढ़ावा देने, और सभी नागरिकों की गरिमा और अधिकारों का सम्मान करने के लिए संयुक्त प्रयास करने की ज़रूरत है।

IGNOU BABG-171 NOTES

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!